Gharelu Nuskha

कमर दर्द के Gharelu नुस्खे

कमर-दर्द एक सामान्य समस्या है | कमर-दर्द का प्रायः कोई निश्चित कारण नहीं होता |

कमर-दर्द गलत ढंग से उठने-बैठने, स्नायुओं के खिंचाव, सामान्य तनाव, अधिक वजन उठाने या अचानक इधर-उधर मुड़ने या झुकने का परिणाम भी हो सकता है |

 यह दोषपूर्ण वातावरण या काम करने का असुविधाजनक स्थान या अत्यधिक मुलायम बिस्तर पर सोने से भी हो सकता है |

  • यह पीड़ा कमर के ऊपर तथा नीचे के किसी भी भाग में हो सकती है |
  • कशेरुकाओं के जोड़ों में भी विकृति अथवा अधिक दबाव पड़ने से कमर-दर्द हो जाता है |
  • मांसपेशियों में तनाव के कारण भी गर्दन, कन्धा तथा गर्दन के पीछे पीड़ा हो सकती है |

कमर दर्द का उपचार

  1. सामान्य कमर-दर्द में एक चम्मच नीबू के रस में एक चम्मच लहसुन का रस मिलाकर एक घूंट के लगभग पानी मिलाकर प्रातः-सायं नित्य पीने से दर्द में आराम होता है |
  2. मेथीदाना अथवा मेथी की सब्जी का प्रयोग करते रहने से कमर-दर्द में लाभ होता है | सर्दियों के दिनों में मेथी के लड्डू अथवा अंकुरित मेथीदाना खाने से लाभ होता है |
  3. सहजन की फली अथवा फूलों का सब्जी के रूप में उपयोग करने से कमर-दर्द के अतिरिक्त शरीर के अन्य दर्दो में भी लाभ होता है | सहजन के फूल बहुत ही कड़वे होते हैं | लेकिन गरम पानी में उबालने से उनका कड़वापन कम हो जाता है |
  4. दो छुआरे दूध में उबालकर पीने से कमर-दर्द में बहुत लाभ होता है | सर्दियों में इससे सर्दी से बचा जा सकता है |
  5. जायफल को पानी और तिल के तेल में मिलाकर उबाल लें | जब पानी जल जाए और तेल रह जाए तो उसके ठण्डे होने पर दर्द वाले स्थान पर मालिश करने से लाभ होता है |

Related posts

हिचकी का घरेलू illaj

admin

कुकर खांसी (Whooping Cough) खत्म

admin

Whiplash Result in a Spinal Cord Injury? Symptoms + Treatment Options

admin

Leave a Comment

ilm-e-tib - health is wealth
In this New Portal you will get a basic knowledge about medical nutrition, fruits, vegetables, spices, natural remedies and nutrients, its advantages and disadvantages, and treatment in English, Hindi. Such as Benefits and treatment of household prescription, Knowledge and treatment of the Ayurveda, method of treatment therapy, Grandmother's Nuskha, Natural Remedies & medical news.